रविवार, अप्रैल 19

जी लो मुस्करा के


खिलेंगे,टूटेंगे,मुरझा कर झड़ जायेंगे,
ये फूल चन्द रोज में फीके पड़ जायेंगे,

कायम रहेगा इनका लेकिन ये मशवरा,
एक पल ही जी लो लेकिन मुस्करा के जरा ,

बिखेर दो खुशबू जहाँ भी मौजूद हो,
फूलों की तरह आदमी का भी वजूद हो

फूलों से कुछ जीना सीख ले आदमी

हंस के गम पीना सीख ले आदमी

17 टिप्‍पणियां:

Babli ने कहा…

आप का कमेन्ट मिल ने पर मेरा उत्साह दुगना हो जाता है!
बहुत बहुत शुक्रिया!
आपने मेरी हर एक शायरी पे इतना सुन्दर कमेन्ट दिया उसके लिये मै आपका आभारी हू !
वाह वाह क्या बात है! बहुत ही उन्दा लिखा है आपने

Science Bloggers Association ने कहा…

बहुत खूब, आपने इस छोटी सी रचना मे जिंदगी की सच्‍चाई उकेर कर रख दी, बधाई।

-----------
खुशियों का विज्ञान-3
एक साइंटिस्‍ट का दुखद अंत

मोना परसाई "प्रदक्षिणा" ने कहा…

बिखेर दो खुशबू जहाँ भी मौजूद हो,
फूलों की तरह आदमी का भी वजूद हो
......बहुतखूब

seema gupta ने कहा…

फूलों से कुछ जीना सीख ले आदमी

हंस के गम पीना सीख ले आदमी

" बेहद उत्साह प्रदान करती ये पंक्तियाँ सच मे ही उर्जा देती लगी..."

regards

Harkirat Haqeer ने कहा…

कायम रहेगा इनका लेकिन ये मशवरा,
एक पल ही जी लो लेकिन मुस्करा के जरा ,

फूलों से नित हँसना सीखो भौंरों से नित गाना
तरु की झुकी डालियों से नित सीखो शीश झुकाना

बचपन में ये कविता पढा करते थे .....पर हम कहाँ कुछ सीख पाते हैं ....!!
खैर आपने बहुत अच्छी पंक्तियाँ लिखी ...शुक्रिया.....!!

manu ने कहा…

bahut hi khoobsurat
vaise bhi hamesha achcha hi likhte hai.
nature ki her ek cheez insan ko kuch sikhati hai, n hamesha deti hai jiska use koi gam nai kash insan bhi esa ho pata, .......
kosish jaari hai

गर्दूं-गाफिल ने कहा…

फूलों से कुछ जीना सीख ले आदमी हंस के गम पीना सीख ले आदमी



बहुत सुंदर शेर
badhai

गर्दूं-गाफिल ने कहा…

बड़े पवित्र है हम दोनों

मै और मेरा लक्ष्य

किसी त्रासदी के

चरित्र है हम दोनों


adbhut shbd snyojn
badhai

sandhyagupta ने कहा…

Sachchi sikh di aapne.

आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' ने कहा…

मन को छूती भावप्रवण रचना...

"अर्श" ने कहा…

PRIYA BHAAEE ABHINNA,
AAPKO BHI SAPARIVAAR KARIYATI AUR SALAAMATI CHAHTA HUN, MAGAR IS TARAH SE ACHAANAK AAP GAYAB NAA HO BLOG JAGAT SE ... MAINE SOCHAA KE AAPKO ALAG SE MAIL KARUN MAGAR AAPKI MAIL ID MUJHE NAHI MILI...SO ISI PE...
BAHOT HI KHUBSURTI SE LIKHAA HAI AAPNE PHOOLON SE KOI JEENA SIKH LE .. BAHOT HI KAAMYAAB RACHANAA HAI...

AAPKA
ARSH

मुकेश कुमार तिवारी ने कहा…

अभिन्न जी,

वाकई बहुत ही अच्छी रचना है, जो जिणे की कला भी सिखाति है और मशविरा भी देती है :-

बिखेर दो खुशबू जहाँ भी मौजूद हो,
फूलों की तरह आदमी का भी वजूद हो

सादर,

मुकेश कुमार तिवारी

raj ने कहा…

pholo se bhi kuchh seekh le aadmi....kuch hi shabdo me boht kaha apne...

RC ने कहा…

Nice one .... I liked the Poem a lot that you have posted as a comment. Spontaneous and beautiful.

God bless
RC

*KHUSHI* ने कहा…

फूलों से कुछ जीना सीख ले आदमी
हंस के गम पीना सीख ले आदमी

kya baat hai... kitni aasani se ghari baat likh di

Shubhali ने कहा…

Bahut achcha likha hai aapne ..short and sweet .... :)

Rajat Narula ने कहा…

बिखेर दो खुशबू जहाँ भी मौजूद हो,
फूलों की तरह आदमी का भी वजूद हो

Bahut sunder rachna hai...