शनिवार, जुलाई 31

बंदिश नहीं कोई


परेशां जब हुए हम मौसमों के लिए,
राहें आसां हो गई हादसों के लिए,


नफरत तुम्हारी अब सही न जाएगी,

दुश्मनों सी सजा क्यूँ दोस्तों के लिए ?



करना है तो कर तकसीम ज़ज्बात को
क्यूँ मरते -मारते हो सरहदों के लिए,


बंदिश नहीं कोई चिनाबो-सतलुज पर,
होती क्यूँ सियासत पानियों के लिए।


जीने को दो दाना जरुरत रोजाना उसकी
कब उड़ा बता परिंदा मोतियों के लिए




12 टिप्‍पणियां:

seema gupta ने कहा…

बंदिश नहीं कोई चिनाबो-सतलुज पर,होती क्यूँ सियासत पानियों के लिए।

" very beautifully expressed, just liked reading it.."

regards

JHAROKHA ने कहा…

sarvpratham mere blog par aane ke liye aapko hardik abhinandan.
behad pasand aai aapki yah gazal,jise bar bar padhne ka man haota hai.
poonam

आशीष/ ASHISH ने कहा…

नफरत तुम्हारी अब सही न जाएगी,
दुश्मनों सी सजा क्यूँ दोस्तों के लिए ?

बंदिश नहीं कोई चिनाबो-सतलुज पर,
होती क्यूँ सियासत पानियों के लिए।

लिल्लाह! खूबसूरत!
ये दोने खासकर लाख टके के लगे!

ana ने कहा…

blog visit karna ke liye shukriya.........aapki ye kavita nujhe bahut pasand aayee .......nihayat khubsoorat kavita

Babli ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण ग़ज़ल लिखा है आपने! मुझे बेहद पसंद आया! इस उम्दा ग़ज़ल के लिए बधाई!

sandhyagupta ने कहा…

करना है तो कर तकसीम ज़ज्बात को
क्यूँ मरते -मारते हो सरहदों के लिए

kya baat kahi aapne.sundar aur prabhavi.

Parul ने कहा…

ghazal lajawab hai!keep going!

manu ने कहा…

करना है तो कर तकसीम ज़ज्बात कोक्यूँ मरते -मारते हो सरहदों के लिए,
जीने को दो दाना जरुरत रोजाना उसकीकब उड़ा बता परिंदा मोतियों के लिए
behad khoobsurat

Babli ने कहा…

*********--,_
********['****'*********\*******`''|
*********|*********,]
**********`._******].
************|***************__/*******-'*********,'**********,'
*******_/'**********\*********************,....__
**|--''**************'-;__********|\*****_/******.,'
***\**********************`--.__,'_*'----*****,-'
***`\*****************************\`-'\__****,|
,--;_/*******HAPPY INDEPENDENCE*_/*****.|*,/
\__************** DAY **********'|****_/**_/*
**._/**_-,*************************_|***
**\___/*_/************************,_/
*******|**********************_/
*******|********************,/
*******\********************/
********|**************/.-'
*********\***********_/
**********|*********/
***********|********|
******.****|********|
******;*****\*******/
******'******|*****|
*************\****_|
**************\_,/

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ !

Poonam Agrawal ने कहा…

जीने को दो दाना जरुरत रोजाना उसकीकब उड़ा बता परिंदा मोतियों के लिए

Behad khoobsurat panktiyan ... keep it up ... Badhai.

भूतनाथ ने कहा…

betarteeb si rachna.....to tarteeb kisi kahate hain bhaai....is sundar si rachna ke liye aapko dhanyavaad...

Puneet Sahalot ने कहा…

bahut khoob bhaiya :)
कब उड़ा बता परिंदा मोतियों के लिए