मंगलवार, सितंबर 7

नाना के खेत




झांक रहा था मै गाड़ी से कब आयेंगे नाना के खेत,
देख के मुझको मेरी तरह खुश हो जायेंगे नाना के खेत /


स्वाभिमानी नाना के जैसे खड़े मिलेंगे गन्ने व पेड़,
ओर नानी के दुलार प्यार सा लहलहाएंगे नाना के खेत/


जहाँ घुमा करते थे नाना जी खुरपी या कुदाल लिए ,
क्या अब भी मेहनत के पसीने से भरमायेंगे नाना के खेत/


वहां मटर के दाने होंगे,या मूली,शलगम गाज़र हो,
खाने को कुछ न कुछ तो मुझे दे जायेंगे नाना के खेत/


सारे मामा थे खेतों में,संग पटवारी ओर रस्सी के,
शायद चार हिस्सों में अब बंट जायेंगे नाना के खेत/


6 टिप्‍पणियां:

manu ने कहा…

bachpan ki yaade hoti hi kuch esi h.......
ab na to vase khet rhe na hi log.......per aj b train se bus se ya car se gujrte hue khet peli chadar odhe dikhte h to kuch yade to taaza ho ati h

manu ने कहा…

bachpan ki yaade hoti hi kuch esi h.......
ab na to vase khet rhe na hi log.......per aj b train se bus se ya car se gujrte hue khet peli chadar odhe dikhte h to kuch yade to taaza ho ati h

Poonam Agrawal ने कहा…

Aapki rachna mein mitti ki bhini sugand hai,kuch yaadein hai, kuch dard hai, kuch sachai hai ... sankshep mein kahu to katu satya hai ... sunder rachna ...badhai

BrijmohanShrivastava ने कहा…

आप को सपरिवार दीपावली मंगलमय एवं शुभ हो!
मैं आपके -शारीरिक स्वास्थ्य तथा खुशहाली की कामना करता हूँ

डॉ० डंडा लखनवी ने कहा…

सराहनीय लेखन........
+++++++++++++++++++
चिठ्ठाकारी के लिए, मुझे आप पर गर्व।
मंगलमय हो आपको, सदा ज्योति का पर्व॥
सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

जितेन्द्र ‘जौहर’ Jitendra Jauhar ने कहा…

सुन्दर रचना...!