बुधवार, अक्तूबर 22

मैंने कब कहा मेरे साथ चल ?


मेरे आंसुओं का क़र्ज़ है,तेरा फ़र्ज़ है अदा करो
दिल दुखाये कोई तेरा,मुझे याद कर लिया करो
जब भी डरा तेरे लिए डरा ,यूँ ही बेवफा भी हो गया
है इसी में अब वफ़ा तेरी, ख़ुद से तुम वफ़ा करो
मेरी आबरू थी तू कभी,अब आरजू सी रह गई
कभी भूल से भुला न दूँ,बन के ख्वाब मिला करो
तू चाँद मै ज़मीन हूँ ,कम होंगे कभी न फासले
मैंने कब कहा मेरे साथ चल,मै रुकूं तो तुम रुका करो
मंजिल मिले हो ख़त्म सफर ,ये चले तो चले जिंदगी
ये सिलसिला रहे हमेशा , न रुके कभी ये दुआ करो

12 टिप्‍पणियां:

Prakash singh "Arsh" ने कहा…

मेरी आबरू थी तू कभी,अब आरजू सी रह गई
कभी भूल से भुला न दूँ,बन के ख्वाब मिला करो
bahot hi sundar ,bahot hi pyari ghazal.... aapko dhero badhai...

Arsh

abhishek ने कहा…

hey thanx for ur comments on my blog
i updated my blog just check it out
keep visiting
placeofloves.blogspot.com

manu ने कहा…

very touchy and full of emotions
"milte rahenge unse khawabo me,
yunhi kuch khawab hamare bhi sajte rahenge,
na ho fasle kam to kya,
kitabon me dabe phool se ,
taumr khushnuma rahenge.

seema gupta ने कहा…

मेरे आंसुओं का क़र्ज़ है,तेरा फ़र्ज़ है अदा करो
दिल दुखाये कोई तेरा,मुझे याद कर लिया करो
" touching words with great emotions"

Regards

भवेश झा ने कहा…

bahot khub achaa laga, dhnyabad

singhsdm ने कहा…

acchi kavitaayen. maza aa gaya

BrijmohanShrivastava ने कहा…

आबरू थी आरजू रह गई बहुत सुंदर /कभी भूल से भुला न दूँ ,गंभीरता /

Prakash singh "Arsh" ने कहा…

diwali ki dhero shubhkamana bhai sahab,aur aajkal kahan ho aap?


regards
arsh

seema gupta ने कहा…

दीप मल्लिका दीपावली - आपके परिवारजनों, मित्रों, स्नेहीजनों व शुभ चिंतकों के लिये सुख, समृद्धि, शांति व धन-वैभव दायक हो॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰ इसी कामना के साथ॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰ दीपावली एवं नव वर्ष की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

"SURE" ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

achhi rachna ke liye sadhuwaad magar
मित्रवर,
नमस्कार.
मेरे ब्लाग 'यार चकल्लस' पर आपकी टिप्पणी पढ़ कर आपकी सदाशयता से अभिभूत हूं.
परन्तु आपकी जानकारी के लिये निवेदन है कि
यों तो मेरे पांच ब्लाग है लेकिन मैं केवल तीन ब्लाग्स को ही निरन्तर अपडेट कर पा रहा हूं.
इसलिये यदि आप मेरे निम्न ब्लाग्स पर भ्रमण करेंगें तो मेरी जानकारी में रहेंगें और संवाद बना रहेगा

योगेन्द्र मौदगिल डाट ब्लागस्पाट डाट काम
yogindermoudgil.blogspot.com
हरियाणा एक्सप्रैस डाट ब्लागस्पाट डाट काम
haryanaexpress.blogspot.com
कलमदंश पत्रिका डाट ब्लागस्पाट डाट काम
kalamdanshpatrika.blogspot.com

निम्न दोनो ब्लाग्स अभी अपडेट नहीं कर पा रहा हूं
हास्यकविदरबार डाट ब्लागस्पाट डाट काम
यारचकल्लस डाट ब्लागस्पाट डाट काम
शेष शुभ
आशा है आप उपरोक्त तीनों ब्लाग्स ही पढ़ेंगें
साभार
-योगेन्द्र मौदगिल

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

मित्रवर,
नमस्कार.
मेरे ब्लाग 'यार चकल्लस' पर आपकी टिप्पणी पढ़ कर आपकी सदाशयता से अभिभूत हूं.
परन्तु आपकी जानकारी के लिये निवेदन है कि
यों तो मेरे पांच ब्लाग है लेकिन मैं केवल तीन ब्लाग्स को ही निरन्तर अपडेट कर पा रहा हूं.
इसलिये यदि आप मेरे निम्न ब्लाग्स पर भ्रमण करेंगें तो मेरी जानकारी में रहेंगें और संवाद बना रहेगा

योगेन्द्र मौदगिल डाट ब्लागस्पाट डाट काम
yogindermoudgil.blogspot.com
हरियाणा एक्सप्रैस डाट ब्लागस्पाट डाट काम
haryanaexpress.blogspot.com
कलमदंश पत्रिका डाट ब्लागस्पाट डाट काम
kalamdanshpatrika.blogspot.com

निम्न दोनो ब्लाग्स अभी अपडेट नहीं कर पा रहा हूं
हास्यकविदरबार डाट ब्लागस्पाट डाट काम
hasyakavidarbar.blogspot.com
यारचकल्लस डाट ब्लागस्पाट डाट काम
yaarchakallas.blogspot.com
शेष शुभ
आशा है आप उपरोक्त तीनों ब्लाग्स ही पढ़ेंगें
साभार
-योगेन्द्र मौदगिल